• राजपुताना शौर्य फाउंडेशन में आपका स्वागत है
  • सदस्यता
    सदस्य बनिए
  • लॉग-इन
    सदस्य लॉग-इन करें

हमारे कार्यक्रम

हमारे कार्यक्रम

राजपूत समाज अलग - अलग क्षेत्रो में विभिन्न कारणों से अपने गौरवपूर्ण इतिहास एवं सम्मान को सुरक्षित रखने हेतु प्रयासरत है | राजपूताना शौर्ये फाउंडेशन अपने उद्देस्य को ध्यान में रखते हुए समाज की एकता उत्थान एवं विकास हेतु अलग - अलग कार्यक्रम संचालित करता है
सामाजिक एकता एवं संगठन विस्तार

सामाजिक एकता एवं संगठन विस्तार

सामाजिक एकता इस संगठन की मूल अवधारणा है | एकता ऐसी शक्ति है जो कुछ भी करा सकती है अथवा कर सकती है | सामाजिक एकता हेतु संपर्क संवाद सहयोग...

शिक्षा एवं बौद्धिक सम्पन्ता

समाज के उत्थान एवं विकास हेतु शिक्षा बहुत महत्वपूर्ण है | समाज जितना अधिक शिक्षित होगा, समाज की बौद्धिक सम्पन्ता उतनी ही अधिक होगी...

स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवा

इस कार्यक्रम के अंतर्गत समाज के जरूरतमंद लोगो को आवश्यकतानुसार स्वास्थ्य सम्बंदित सुझाव व मदद अलग - अलग क्षेत्रों में आपसी सहयोग से करना है...

स्वरोजगार एवं आर्थिक सम्पनता

इस कार्यक्रम के अंतर्गत समाज के बेरोजगार व्यक्तियों को उनकी रूचि व आर्थिक स्थिति के अनुसार समुचित मार्गदर्शन, प्रशिक्षित सलाहकार के माध्यम से उनका सहयोग करना है...

महिला सशक्तिकरण

इस कार्यक्रम के अंतरर्गत समाज की महिलाओ को उनके अधिकार या उसके लाभ के बारे में समाज में जागरूकता का प्रभाव कराते हुए समाज की महिलाओ के सम्मान को सुनिचित कराना है...

स्वछता एवं पर्यावरण संरक्षण

वर्तमान समय में प्रदुषण एवं गंदगी एक अभिशाप हो चुकी है जिस पर समाज के लोगो के एकजुट होकर दूर करना है | समाज में पर्यावरण संरक्षण हेतु ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण हेतु चेतना जाग्रत कराना है...

वैवाहिक कार्यक्रम

आज के वर्तमान परिवेश में हमारे लिए सबसे बड़ी समस्या विवाह हेतु स्वजातीय वर - वधु की खोज व विश्वश्नीयता का प्रश्न महत्वपूर्ण हो गया है | वैवाहिक कार्यक्रम के अंतर्गत समाज के...

विधिक सहायता

इस कार्यक्रम के अंतर्गत समाज के लोग जो आर्थिक व किसी भी अन्य कारण से न्याय पाने से वंचित रह गए है उन्हें क़ानूनी सहायता समाज के सक्षम लोगो से कराना एवं उनको...

कृषि एवं उन्नत खेती

कृषि भारत के निवासियों हेतु मुख्य जीविका का साधन है | समाज में अधिकतर राजपूत भाइयो के पास कृषि योग्य जमीन है जिस पर उन्नति खेती के माध्यम से आर्थिक स्थिति सुद्रण की जा सकती है...

विवादों का समाधान

समाज में आपसी वेमंनसयता , गुटबंदी , ईष्या, झगड़ो आदि के कारण आपसी सामंजस्य एवं एकता पर काफी प्रभाव पड़ा है | हमारी कोशिश रहेगी की ऐसे मामलो को आपसी...

अन्य परिस्थिति जन कार्य

समय - समय पर समाज के माध्यम से कुछ अन्य मामले संज्ञान में लाने पर हमारी कोशिश रहेगी की हम उनका समाधान करा सके तथा समाज की सहायता कर सके...
और अंत में, समस्त राजपूत समाज से अनुरोध / निवेदन करते है की आप दिल से समर्पण की भावना से राजपूताना शौर्य फाउंडेशन से जुड़े जिससे की हम अपने समाज के वंचित लोगो को समाज के संचित संसाधन से उन्हें सिंचित कर सके एवं उन्हें आर्थिक एवं बौद्धिक सम्पदा की पंक्ति में खड़ा कर सके